विदेशी मुद्रा व्यापार में भारत

बैंक पूंजी

बैंक पूंजी
Capital Adequacy Ratio= (टियर I + टीयर II + टीयर III (कैपिटल फंड) / जोखिम भारित एसेट्स (RWA) )

रत्न और आभूषण का निर्यात जून में 21.41 प्रतिशत बढ़कर 25,295 करोड़ रुपये पर: जीजेईपीसी

बरेली: अर्बन को-ऑपरेटिव बैंक की हुई 26वीं वार्षिक बैठक, कई मंत्री रहे मौजूद

31 मार्च 2021 के सापेक्ष 31 मार्च 2022 के आंकड़े प्रस्तुत करते हुए मुख्य कार्यपालक अधिकारी श्रीपाल कश्यप द्वारा अवगत कराया गया कि बैंक के निक्षेप, ऋण व्यवसाय व निजी पूंजी में वृद्धि हुई है जबकि नेट एनपीए गत वर्षों बैंक पूंजी की भांति शून्य रहा है। इस वित्तीय वर्ष में बैंक ने भारतीय रिजर्व बैंक से अपना IFS Code आवंटित कराया है तथा UPI सेवायें ग्राहकों को समर्पित की हैं।

बैंक की अध्यक्षा सौभाग्य गंगवार ने बैंक की प्रगति पर प्रकाश डालते हुए कहा कि इस वर्ष बैंक ने भारतीय रिजर्व बैंक से इंटरनेट प्रारम्भ करने बैंक पूंजी की अनुमति प्राप्त कर ली है जो आगामी 15 दिनों के अन्दर ग्राहकों को उपलब्ध करा दी जायेगी। इस वर्ष बैंक ने बरेली विकास प्राधिकरण की रामगंगानगर योजना के सेक्टर-10 में एक भूखण्ड भी तय किया है बैंक पूंजी जिसका उपयोग भविष्य में शाखा खोलने, गेस्ट हाउस बनाने एवं ट्रेनिंग सेन्टर खोलने में किया जायेगा। अपने विस्तारवादी कार्यक्रमों के चलते अधिक पूंजी की संग्रहण आवश्यकता के कारण बैंक ने अपने अंशधारकों को इस वर्ष मात्र 10% लाभांश की घोषणा की है।

आने वाले दिनों में आपकी जमा पूंजी पर मिलेगा और ज्यादा रिटर्न, RBI ने कहा- बैंक इंट्रेस्ट रेट बढ़ाने को मजबूर

आने वाले दिनों में आपकी जमा पूंजी पर मिलेगा और ज्यादा रिटर्न, RBI ने कहा- बैंक इंट्रेस्ट रेट बढ़ाने को मजबूर

TV9 Bharatvarsh | Edited By: शशांक शेखर

Updated on: Jul 17, 2022 | 10:34 AM

आने वाले दिनों में बैंक में आपकी जमा पूंजी पर ज्यादा इंट्रेस्ट (Interest rate hike on deposits) मिलेगा. ऐसा रिजर्व बैंक (Reserve bank of India) की तरफ से जारी रिपोर्ट में कहा गया है. इस रिपोर्ट के मुताबिक, जिस रफ्तार से क्रेडिट ग्रोथ यानी लोन की मांग में तेजी आ रही है, उस रफ्तार से डिपॉजिट्स में उछाल नहीं देखा जा रहा है. ऐसे में बैंकों को मजबूरी में इंट्रेस्ट रेट बढ़ाकर कस्टमर्स को लुभाना होगा. रिपोर्ट में कहा गया है कि आर्थिक सुधार की रफ्तार धीरे-धीरे तेज हो रही है. महंगाई भी कम हो रही है और मानसून अच्छा रहने का अनुमान है. इससे बैंक पूंजी ग्रोथ को सपोर्ट मिल रहा है. आर्थिक गतिविधियों में सुधार के कारण लोन की डिमांड तेजी से बढ़ रही है.

ये भी पढ़ें

Indian Railways ने यात्रियों के लिए जारी की बहुत जरूरी सूचना, कई ट्रेनों की सेवाओं में किया गया बदलाव

Indian Railways ने यात्रियों के लिए जारी की बहुत जरूरी सूचना, कई ट्रेनों की सेवाओं में किया गया बदलाव

Airtel ने 5,224 करोड़ रुपये में Google को बेचे 7.1 करोड़ इक्विटी शेयर

Airtel ने 5,224 करोड़ रुपये में Google को बेचे 7.1 करोड़ इक्विटी शेयर

होम लोन पर इंट्रेस्ट रेट बढ़ने और महंगाई में उछाल से टूट रहा है अफोर्डेबल हाउसिंग का सपना

IDBI बैंक में 9,000 करोड़ रुपये की पूंजी डालने को मंत्रिमंडल की मंजूरी

IDBI बैंक में 9,000 करोड़ रुपये की पूंजी डालने को मंत्रिमंडल की मंजूरी

सरकार ने आईडीबीआई बैंक में 9,000 करोड़ रुपये की पूंजी डालने के फैसले को मंजूरी दे दी है। इसका मकसद बैंक की कर्ज देने की क्षमता बढ़ाना है। पीएम मोदी की अध्यतक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में ये फैसला हुआ।

नई दिल्ली में कल हुई केन्द्रीय कैबिनेट की बैठक में सरकार ने आईडीबीआई बैंक में 9,000 करोड़ रुपये की पूंजी डालने के फैसले को मंजूरी दे दी है, साथ ही सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों द्वारा ईंधन में मिलाने के लिये खरीदे जाने वाले एथनॉल के दाम में वृद्धि की घोषणा की है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की आर्थिक मामलों की समिति की बैठक में यह निर्णय लिया गया।

SBI, BOI, UBI समेत अन्य बैंक ला रहे हैं Bond. FD के मुक़ाबले 14% तक मिल सकता हैं ब्याज.

SBI, BOI, UBI समेत अन्य बैंक ला रहे हैं Bond. FD के मुक़ाबले 14% तक मिल सकता हैं ब्याज.

Bank bonds in India. अगले कुछ हफ्तों में बैंक बॉन्ड के जरिए फंड जुटाने की तैयारी में हैं ताकि यील्ड में गिरावट का फायदा बैंक पूंजी उठाया जा सके और कर्ज मांग में तेजी के बीच पूंजी की जरूरतों को पूरा किया जा सके.

RelatedPosts

  • बैंक ऑफ इंडिया टियर-1 बॉन्ड से इस माह के अंत तक 15 अरब रुपए जुटाना चाहती है जब कि
  • यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की टियर- 2 बॉन्ड के माध्यम से 22 अरब रुपए तक जुटाने की योजना बनाई है.
  • जम्मू और कश्मीर बैंक भी टियर – 2 बॉन्ड से 15 अरब रुपए जुटाने की तैयारी में है.

बढ़ती क्रेडिट मांग को पूरा करने के लिए बैंक बॉन्ड के रुप में बैंक पूंजी अतिरक्त पूंजी जुटा रहे हैं ताकि उनकी बैलेंस शीट का आकार बढ़ाया जा सके. मांग में सुधार के बाद छोटी कंपनियों को उत्पादन बढ़ाने की जरूरत महसूस बैंक पूंजी हो रही है.

  • कोटक महिंद्रा बैंक की 7 साल के इंफ्रास्ट्रक्चर बॉन्ड के जरिए 15 अरब रुपए जुटाने की योजना है.
  • SBI इन्फ्रास्ट्रक्चर बॉन्ड से 100 अरब जुटाने पर भी विचार कर रहा है.

सुरक्षित निवेश होता हैं बॉण्ड

बॉण्ड निवेश हमेशा से FD के जैसा ही सुरक्षित माना जाता हैं. डूबने की स्थिति में कंपनी की सम्पति बेच कर सबसे पहले बॉण्ड धारक को पैसे दिये जाते हैं.

इसको ख़रीदने के लिए बैंक के साथ साथ GoldePi जैसे प्लेटफार्म का इस्तेमाल कर सकते हैं. रही बात रिटर्न की तो बैंक पूंजी बॉण्ड मार्केट में ब्याज डेयर औसतन 8% से 14% तक के बीच में रहती हैं. यह ब्याज दर कंपनी के क्रेडिट रेटिंग के आधार पर भी ऊपर नीचे ऑफर होता हैं.

क्या हैं इसकी इंपोर्टेंस

इसकी जरुरत बैंकिंग संस्थान जो अपनी धनराशि बनाते हैं उसको सीमित करने में पड़ती है. पूंजी पर्याप्तता अनुपात (Capital Adequacy Ratio) से ये निश्चित करा जाता है कि अगर बैंक लोन दे रहा है तो वो कुछ अमाउंट को अलग रखें. ऐसा इसलिए किया जाता है जिससे अगर लोन खराब होता है तो इन फंड से लॅास को कवर किया जा सके. इसलिए ये प्रोविजन लोन देने के लिए डिपॅाजिट अमाउंट को लिमिट कर देते हैं. Capital Adequacy Ratio में बदलाव का इकॅानमी बैंक पूंजी पर प्रभाव पड़ता है.

Zee Business Hindi Live TV यहां देखें

रेटिंग: 4.53
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 143
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *