क्रिप्टोक्यूरेंसी ट्रेडिंग

एक क्रिप्टो

एक क्रिप्टो
इसे आसान भाषा में ऐसे समझ सकते हैं — क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग एक ऐसी प्रक्रिया है जो प्रूफ-ऑफ-वर्क (PoW) मैथड का उपयोग करने वाली क्रिप्टोकरेंसी के लिए ब्लॉकचेन में नए ट्रांजेक्शन को वैरिफाई करती है और जोड़ती है. इसमें प्रतियोगिता जीतने वाले माइनर को कुछ करेंसी / ट्रांजेक्शन फीस रिवार्ड के रूप में दी जाती है.

cryptocurrency mining

Cryptocurrency in hindi 2022| क्रिप्टो करेंसी की जानकारी | CryptoCurrency Kya Hai?

आजकल शेअर मार्केट, मुच्युअल फंड मे इनवेस्टमेंट से जादा चर्चे CryptoCurrency मे Investment के हो रहे हैं, क्योंकि Bitcoin, Ethereum जैसे क्रिप्टोकरेंसी एक क्रिप्टो की बात करें तो यह काफी कम समय मे बहुत जादा रिटर्न्स दिये है जो की शेअर मार्केट और म्युचुअल फंड 20-20 सालो मे भी नहीं देते.
आज हम देखेंगे की क्रिप्टोकरेंसी क्या है? और यह कैसे काम करती है. क्रिप्टोकरेंसी की A to Z जानकारी हम आपको यहा देंगे. तो चलिये देखते हैं CryptoCurrency Kya Hai और CryptoCurrancy Kaise kam karti Hai.

क्रिप्टोकरेंसी एक डिजिटल करेंसी है इसे वर्चुअल करेंसी भी कहते है. यह एक आभासी मुद्रा हैं. इसे Decentralized System द्वारा नियंत्रित किया जाता है. भारत मे जैसे रुपया, अमेरिका मे डाॅलर वैसे ही क्रिप्टोकरेंसीया भी एक Currency का काम करती है.
कई देशों मे इसे लिगल टेंडर तक घोषित कर दिया है यानी आप लेन देन मे इसका इस्तमाल कर सकते हो.

क्रिप्टोकरेंसी काम कैसे करता है?

असल मे क्रिप्टोकरेंसी ब्लाॅकचेन पर काम करती है, दरसल जो भी लेन देन या ट्राझेक्शन होता है उसका सारा रेकार्ड रखा जाता है. कुछ एडवांस कंप्यूटर होते है उसके जरिये इसमे निगरानी रखी जाती है इसे CryptoCurrency Mining भी कहा जाता है.
इसका हर एक छोटा बडा Transaction एक ब्लाॅक मे रखा जाता है. ब्लाॅक की सिक्योरिटी मायनर्स के हात मे होती है. इसका बहुत कठिण कैलकुलेशन होता है उसे हल करे उसे सुरक्षित रखने का काम Miners का होता है. Mining करके भी बहुत लोग पैसा कमाते है.
Miners ब्लाॅक को सुरक्षित करते है और उसे एक कोड लगा देते है यह वेरिफाय करने का काम Nodes करते है, इसे Consensus कहा जाता हैं. यह सब प्रोसेस करने के लिये Miners को क्रिप्टोकाईंन्स भी मिलते हैं.

एक ऐसा मार्केट जहा पर आप कोई भी लिस्टेड क्रिप्टोकरेंसी को आप खरिद या बेच एक क्रिप्टो सकते या उसमे ट्रेड कर सकते है जैसे Bitcoin, Ethereum, Binance, Litecoin, Dogecoin और भी ऐसे सेकडो करेंसी हैं.
भारत मे अलग अलग Platform है जैसे CoinDCX, CoinSwitch, Wazirx जिसके जरिये आप क्रिप्टोकरेंसी मार्केट में इनवेस्टमेंट या ट्रेडिंग करते है.
कुछ पाॅपुलर क्रिप्टोकरेंसी-
1. 𝙱𝚒𝚝𝚌𝚘𝚒𝚗
2. 𝙴𝚝𝚑𝚎𝚛𝚎𝚞𝚖
3. 𝚁𝚒𝚙𝚙𝚕𝚎
4.𝙻𝚒𝚝𝚎𝚌𝚘𝚒𝚗
5.𝙳𝚘𝚐𝚎𝚌𝚘𝚒𝚗
6.𝚟𝚘𝚒𝚌𝚎𝚌𝚘𝚒𝚗
7.𝙱𝚒𝚗𝚊𝚗𝚊𝚌𝚎 और भी कई है जिसे आप गुगल पर जाकर जान सकते है.

क्रिप्टो करेंसी इंडिया :

CryptoCurrency का क्रेझ भारत मे भी देखने को मिल रहा है, हजारो करोंड का इनवेस्टमेंट भारत मे है. लोग सोने मे इनवेस्टमेंट की बजह अब क्रिप्टोकरेंसी मे इनवेस्टमेंट करना पसंद कर रहे है क्योंकि इसमे बहुत कम समय मे बहुत जादा रिटर्न्स मिल रहे है.
भारत मे अगर क्रिप्टोकरेंसी मे इनवेस्टमेंट करना है तो आपको बहुत सारे क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज प्लॅटफॉर्म मिल जायेंगे जहा से आप इसमे इनवेस्टमेंट कर सकते हो. जैसे की
1. CoinSwitch Kuber
2. CoinDCX
3.WazirX
और भी कई है लेकिन फिलाल तो यही जादातर इस्तमाल किये जा रहें हैं.

कुछ दिन पहले बिटकाॅईन पर भारत मे बैन लगा दिया था लेकिन कोर्ट से इस निर्णय को वापस ले लिया इसलिये फिलाल तो भारत मे क्रिप्टोकरेंसी पर कोई पाबंदी नहीं है लेकिन इसपर कोई Regulatory भी नहीं है इसलिये अगर आपके साथ CryptoCurrency को लेकर कोई Issue होता है या कोई धोका होता है तो आप कुछ नहीं कर सकते क्योंकि इसपर कोई कानुन नहीं बना गया है इसलिये क्रिप्टोकरेंसी खरिदना है तो अपने रिस्क पे ही खरिदना पढेगा.
लेकिन जल्द ही भारत सरकार क्रिप्टोकरेंसी पर जल्द ही कडे नियम लगानेवाली है इसपर कंट्रोल करनेवाले रुल्स लानेवाली है ताकी क्रिप्टोकरेंसी मे होनेवाले पैसो पर नजर रहें क्योंकि भारत क्रिप्टोकरेंसी का बडा मार्केट हैं.

अगर आपको भी क्रिप्टो वॉलेट में मिल रहे हैं Free Coin या Token तो हो जाएं सावधान! जानिए क्या हैं Crypto Airdrops

Cryptocurrency

Cryptocurrency

gnttv.com

  • नई दिल्ली,
  • 07 जनवरी 2022,
  • (Updated 07 जनवरी 2022, 10:59 AM IST)

एयरड्रॉप एक व्यापक मार्केटिंग स्ट्रेटेजी का हिस्सा होता है

Cryptocurrency Updates: क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) की दुनिया में, एयरड्रॉप (Airdrop) एक मार्केटिंग स्ट्रेटेजी है जिसका उपयोग ब्लॉकचैन-आधारित स्टार्टअप अपने प्लेटफॉर्म के उपयोग को प्रमोट करने के लिए करते हैं. इसमें एक नई वर्चुअल करेंसी को बढ़ावा देने के लिए पब्लिक क्रिप्टो वॉलेट वाले यूजर को फ्री सिक्के या टोकन प्रदान करना शामिल है. ये ठीक ऐसा ही है जैसे सुपरमार्केट में किसी सामान के सैंपल को फ्री में देना ताकि उसकी बिक्री को बढ़ाया जा सके.

आमतौर पर एयरड्रॉप एक व्यापक मार्केटिंग स्ट्रेटेजी का हिस्सा होता है जिसमें सोशल मीडिया प्रमोशन, ब्लॉग पोस्ट और क्रिप्टो धारक भागीदारी के अलग-अलग लेवल शामिल होते हैं. हालांकि, एयरड्रॉप का इस्तेमाल गलत चीजों के लिए भी किया जा सकता है, इसलिए यूजर्स को सावधान रहने की जरूरत है. चूंकि उन्हें प्रोमोशनल टूल के रूप में माना जाता है, इसलिए अगर कोई प्रोजेक्ट किसी प्रकार के इन्वेस्टमेंट की मांग करते हैं तो आपको सतर्क रहना चाहिए.

क्या होती है क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग ? जानिए क्रिप्टो माइनिंग का तरीका

क्या होती है क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग ? जानिए क्रिप्टो माइनिंग का तरीका

क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग एक ऐसी प्रक्रिया है जो प्रूफ-ऑफ-वर्क (PoW) मैथड का उपयोग करने वाली क्रिप्टोकरेंसी के लिए ब्लॉकचेन में नए ट्रांजेक्शन को वैरिफाई करती है और जोड़ती है. इसमें प्रतियोगिता जीतने वाले माइनर को कुछ करेंसी / ट्रांजेक्शन फीस रिवार्ड के रूप में दी जाती है.

ज्यादातर लोग क्रिप्टो माइनिंग को केवल नए कॉइन बनाने का एक तरीका मानते हैं. हालांकि, क्रिप्टो माइनिंग का मतलब ब्लॉकचेन नेटवर्क पर क्रिप्टोकरेंसी ट्रांजेक्शन को वैलिडेट करना और उन्हें एक डिस्ट्रीब्यूटेड लेज़र में जोड़ना है. सबसे महत्वपूर्ण बात, क्रिप्टो माइनिंग एक डिस्ट्रीब्यूटेड नेटवर्क पर डिजिटल करेंसी के दोहरे खर्च (double-spending) को रोकती है.

अब ये प्रूफ-ऑफ-वर्क क्या है?

प्रूफ-ऑफ-वर्क एक ब्लॉकचेन सर्वसम्मति प्रोटोकॉल है, जिसके लिए एक गणितीय पहेली को हल करने के लिए एक माइनर की जरुरत होती है. बिटकॉइन और एथेरियम (वर्ज़न 2 से पहले) प्रूफ-ऑफ-वर्क मैथड का उपयोग करते हैं.

क्रिप्टो के अलावा, स्पैमर्स को रोकने के लिए, ईमेल के लिए PoW मैथड का एक क्रिप्टो एक बदलाव प्रस्तावित किया गया है. उदाहरण के लिए, यदि हर एक मैसेज को भेजे जाने से पहले केवल 15 सेकंड इंतजार करना पड़ता है, तो कंप्यूटर का उपयोग कभी भी हजारों मैसेज भेजने के लिए नहीं किया जा सकता है.

हालांकि, क्रिप्टो की दुनिया में प्रूफ-ऑफ-वर्क एक बहुत ही विवादास्पद विषय है. क्योंकि यह भारी मात्रा में बिजली का उपयोग एक क्रिप्टो करता है.

cryptocurrency mining

क्यों करनी पड़ती है क्रिप्टोकरेंसी की माइनिंग?

जैसा कि अब आप जान ही गए होंगे कि क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग का उपयोग नए कॉइन बनाने के साथ-साथ मौजूदा ट्रांजेक्शन को वैलिडेट करने के लिए किया जाता है. ब्लॉकचेन की डिसेंट्रलाइज्ड प्रकृति धोखेबाजों को एक ही समय में एक से अधिक बार क्रिप्टोकरेंसी खर्च करने की अनुमति दे सकती है, यदि कोई भी प्रमाणित ट्रांजेक्शन नहीं करता है. माइनिंग इस तरह की धोखाधड़ी को कम करती है और कॉइन में यूजर का विश्वास बढ़ाती है.

क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग के दो उद्देश्य हैं. यह एक क्रिप्टो नई क्रिप्टोकरेंसी तैयार करता है और यह ब्लॉकचेन पर मौजूदा क्रिप्टोकरेंसी ट्रांजेक्शन की प्रामाणिकता की पुष्टि करता है.

ट्रांजेक्शन के एक ब्लॉक की पुष्टि करने की प्रक्रिया पूरी करने के बाद एक माइनर की प्रतिपूर्ति (reimburse) की जाती है. और बदले में उन्हें नई तैयार की गई क्रिप्टोकरेंसी मिलती है.

कैसे होती है क्रिप्टो माइनिंग?

क्रिप्टोकरेंसी की माइनिंग के लिए विशेष सॉफ्टवेयर वाले कंप्यूटरों की जरुरत होती है जो विशेष रूप से जटिल, क्रिप्टोग्राफिक गणितीय समीकरणों को हल करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं. टेक्नोलॉजी के शुरुआती दिनों में, बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी को घरेलू कंप्यूटर पर एक साधारण सीपीयू चिप के साथ माइन किया जा सकता था. हालांकि, पिछले कुछ वर्षों में, सीपीयू चिप्स बढ़ती कठिनाई के स्तर के कारण अधिकांश क्रिप्टोकरेंसी की माइनिंग में फैल होते नज़र आए.

आज के इस दौर में, क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग के लिए एक विशेष GPU या एक Application-Specific Integrated Circuit (ASIC) माइनर की आवश्यकता होती है. इसके अलावा, माइनिंग रिग में GPU को हर समय एक विश्वसनीय इंटरनेट कनेक्शन से जोड़ा जाना चाहिए. प्रत्येक क्रिप्टो माइनर को एक ऑनलाइन क्रिप्टो माइनिंग पूल का भी सदस्य होना आवश्यक है.

Crypto Market Update: क्रिप्टो बाजार में आज भारी गिरावट,16 लाख के करीब पंहुचा Bitcoin

गिरावट की वजह से क्रिप्टो बाजार में बिटकॉइन की कीमतें 21263 डॉलर यानी लगभग 16.97 लाख रुपये के आसपास कारोबार कर रही है। वही, बिटकॉइन के अलावा Ether,Dogecoin,Shibu Inu में भी बड़ी गिरावट देखने को मिली है।

Crypto Market Update: क्रिप्टो बाजार में आज भारी गिरावट,16 लाख के करीब पंहुचा Bitcoin

क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) और इसके निवेशकों (एक क्रिप्टो एक क्रिप्टो Investors) के लिए साल 2022 अबतक बिलकुल भी ठीक या मन चाहे मुनाफे लायक नहीं रहा है। क्रिप्टो बाजार अभी भी बेहद भारी उतार-चढ़ाव के दौर से गुजर रहा है। इसी बीच दुनिया की सबसे लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी बिटकॉइन (Bitcoin) में आज एक बार फिर से बड़ी गिरावट देखने को मिली है। खबर लिखे जाने तक बिटकॉइन में आज लगभग 1.25 फीसदी से ज्यादा की गिरावट देखने को मिली है जो देखने और सुनने में तो मामूली लग रही है, लेकिन इस गिरावट की वजह से क्रिप्टो बाजार में बिटकॉइन की कीमतें 21263 डॉलर यानी लगभग 16.97 लाख रुपये के आसपास कारोबार कर रही है। वही, बिटकॉइन के अलावा Ether,Dogecoin,Shibu Inu में भी बड़ी गिरावट देखने को मिली है।

रेटिंग: 4.59
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 374
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *